Indian Railways saves whopping Rs. 7.5 crores by online recruitment test

| May 4, 2018 | Reply

रेलवे की अनूठी पहल: दुनिया के सबसे बड़े ऑनलाइन भर्ती अभियान से बचाएगा 7.5 करोड़ पन्ने; दस लाख पेड़ों के बराबर बचत होगी

भारतीय रेल ने हाल ही में करीब 90 हजार पदों पर भर्ती के लिए प्रक्रिया शुरू की है। इसके साथ ही वह पर्यावरण की रक्षा के लिए एक अनूठी पहल भी करने जा रहा है। रेलवे ने भर्ती की पूरी प्रक्रिया ऑनलाइन रखने का फैसला लिया है। रेल मंत्रालय के वरिष्ठ अफसर के मुताबिक रेलवे का अनुमान है कि प्रक्रिया ऑनलाइन होने से करीब 7.5 लाख कागज की बचत होगी, जो 10 लाख पेड़ों के बराबर है। इन पदों के लिए रेलवे को करीब 2.37 करोड़ आवेदन मिले हैं।








भर्ती प्रक्रिया में शामिल एक वरिष्ठ अफसर ने बताया कि रेलवे ने असिस्टेंट लोको पायलट से लेकर टेक्नीशियन, ट्रेकमैन, गेटमैन, और पॉइन्टसमैन जैसे पदों के लिए ऑनलाइन टेस्ट में इस्तेमाल होने वाली अलग-अलग भाषाओं वाली प्रश्न पुस्तिकाओं को ऑनलाइन फॉर्मेट में बदल दिया है। खाली पड़े पदों में करीब 62 हजार ट्रेक जांच और सुरक्षा से जुड़े हैं। वहीं 26 हजार इंजन ड्राइवर और टेक्नीशियनों की हैं। इन पदों के लिए दो करोड़ से ज्यादा लोगों ने आवेदन किए हैं।




इसके लिए 300 सेंटर पर ऑनलाइन टेस्ट आयोजित किए जाएंगे। अफसर के मुताबिक एक कैंडिडेट को एग्जाम के दौरान करीब 3-4 ए4 साइज पेपर की जरूरत पड़ती है। एग्जाम ऑनलाइन हो जाने से बड़ी संख्या में कागज की बचत हो सकेगी। उन्होंने बताया कि यह दुनिया की सबसे बड़ी ऑनलाइन भर्ती प्रक्रिया है, जो हजारों नौकरियां तो दे ही रही है। बड़े पैमान पर पर्यावरण की सुरक्षा भी कर रही है। एग्जाम को लेकर गंभीर न रहने वालों को दूर रखने के लिए फीस भी 500 रुपए रखी गई है। यदि कैंडिडेट परीक्षा में शामिल होता है तो 400 रुपए लौटा दिए जाएंगे। आरक्षित वर्ग, महिलाओं, दिव्यांग और आर्थिक रूप से कमजोर लोगों के लिए 250 रुपए फीस रखी गई है। परीक्षा में शामिल होने पर यह पूरी राशि लौटा दी जाएगी। रेलवे अधिकारियों का कहना है कि हर सेंटर पर 5-10% ही परीक्षार्थियों के अनुपस्थित रहने की संभावना है।




रेलवे फिलहाल 13 लाख लोगों को रोजगार दे रहा है। इस भर्ती परीक्षा के लिए उसने बड़े स्तर पर तैयारी की है। इस बात का पूरा ध्यान रखा जाएगा कि एग्जाम के दौरान वेबसाइट क्रेश न हो। हालांकि ऑनलाइन एप्लीकेशन प्रोसेस में साइट की टेस्टिंग हो चुकी है, और आवेदकों को ज्यादा परेशानी नहीं झेलनी पड़ी।

90 हजार पदों के लिए रेलवे की भर्ती प्रक्रिया जारी है, 2.37 करोड़ लोगों ने किए हैं आवेदन
आयकर विभाग ने ईमेल भेजकर 977 करोड़ रुपए बचाए
आयकर विभाग ने ईमेल शुरू करने के बाद से पिछले पांच सालों में 977 करोड़ रुपए से अधिक की बचत की है। वित्त मंत्रालय की रिपोर्ट के मुताबिक ये बचत ईमेल शुरू होने के बाद से पोस्टेज खर्च में कमी आने से हो सकी है। पिछले पांच सालों में टैक्‍स डिपार्टमेंट ने करदाताओं से अपना ऑनलाइन कम्युनिकेशन बढ़ाया है, जिससे पोस्टेज में खर्च होने वाली बड़ी रकम की बचत हुई और इसके चलते 977.54 रुपए बच सके। यह बचत पेपरलेस पॉलिसी लागू करने पर हो सकी है। विभाग ने 2017-18 में दिसंबर तक 212.27 करोड़ रुपए पोस्टेज खर्च में कमी आई। इस साल यह बचत साल 2013-14 में 98.45 करोड़ रु. की बचत के दोगुने से ज्यादा है। टैक्स विभाग ने 14.15 करोड़ ईमेल 2017-18 में भेजे, जबकि 2016-17 में 11.82 करोड़ ईमेल भेजे गए थे। ऑनलाइन कम्युनिकेशन तब तेजी से बढ़ा, जब विभाग ने पूरे देश में पेपरलेस असेसमेंट लागू कर दिया।

Category: Indian Railway

About the Author ()

Leave a Reply